Skip to main content

Posts

Showing posts from October, 2020

भगत सिंह क्यो एक भंगी को मा कहते थे

#अद्वितीय_भगतसिंह!


भगत सिंह की बैरक की साफ-सफाई करने वाले भंगी का नाम बोघा था। भगत सिंह उसको बेबे (मां) कहकर बुलाते थे। जब कोई पूछता कि भगत सिंह ये भंगी बोघा तेरी बेबे कैसे हुआ? तब भगत सिंह कहते, "मेरा मल-मूत्र या तो मेरी बेबे ने उठाया, या इस भले पुरूष बोघे ने। बोघे में मैं अपनी बेबे (मां) देखता हूं। ये मेरी बेबे ही है।"
यह कहकर भगत सिंह बोघे को अपनी बाहों में भर लेते।
भगत सिंह जी अक्सर बोघा से कहते, "बेबे मैं तेरे हाथों की रोटी खाना चाहता हूँ" पर बोघा अपनी जाति को याद करके झिझक जाता और कहता, "भगत सिंह तू ऊँची जात का सरदार और मैं एक अदना सा भंगी। भगतां तू रहने दे, ज़िद न कर।"
सरदार भगत सिंह भी अपनी ज़िद के पक्के थे। फांसी से कुछ दिन पहले जिद करके उन्होंने बोघे को कहा, "बेबे, अब तो हम चंद दिन के मेहमान हैं, अब तो इच्छा पूरी कर दे!"
बोघे की आँखों में आंसू बह चले। रोते-रोते उसने खुद अपने हाथों से उस वीर शहीद-ए-आजम के लिए रोटियां बनाईं और अपने हाथों से ही खिलाई। 
भगत सिंह के मुंह में रोटी का गास डालते ही बोघे की रुलाई फूट पड़ी, "ओए भगतां, ओए मेरे शे…

पाकिस्तान में सेना और पुलिस में छिड़ा युद्ध | ग्रह युद्ध के हालात बने ||

आर्थि’क तं’गी और अपनी आतंकवादी ह’रकतों के चलते पूरी दुनिया में आ’तंकवा’द को पना’ह देने के लिए मशहूर हो चुके पाकिस्तान की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं. पाकिस्तान में पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के दामाद कैप्टन सफदर अवान की गिर’फ्ता’री के बाद हा’लात खराब हो गए हैं.
आपको बता दें सफदर अवान की गिर’फ्ता’री के बाद पाकिस्तान की राजनीतिक में भू’चा’ल आ गया है. इतना ही नही देश के हा’लात इस कद्र खराब हो गए हैं कि गृह युद्ध जैसे हालात बन चुके हैं. इसी बीच पाकिस्तानी मीडिया की तरफ से बड़ी खबर आई है.

बताया जा रहा है कि सिंध प्रांत के गवर्नर इमरान इस्माइल के घर को पाकिस्तानी सेना ने कैद कर रखा है. दरअसल इमरान खान की सरकार के खि’ला’फ एक रैली आयोजित की गई, जिसमें नवाज शरीफ की बेटी मरियम नवाज ने तीखा और तेज तर्रार भा’षण दिया. जिसके बाद घबराए इमरान खान के आदेश के बाद मरियम के पति सफदर अवान को गिरफ्तार कर लिया गया.
 इस घटना के बाद पाकिस्तानी सेना पर आरोप है कि उसने सफदर की गि’रफ्ता’री के ऑर्डर पर जबरदस्ती शाईन करने के लिए सिंध प्रांत के पुलिस चीफ मुश्ताक महार को किडनेप कर लिया. साथ ही उनसे जबरदस्ती FIR पर ह’स्त…

इन सबूतों से साबित होता है कि जम्मू कश्मीर और तिब्बत भारत का हिस्सा थे और रहेंगे

Jammu kashmir tibbat historyनमस्कार दोस्तों आए दिन पाकिस्तान और चीन  जम्मू कश्मीर के बारे में झूठी बाते बोलता है मगर इस पोस्ट में आपको वो सबूत मिलेंगे जिससे ये साबित होता है कि जम्मू कश्मीर और तिब्बत भारत का अभिन्न अंग वर्षों से था और रहेगा ! 
पुराने चित्रों में चीखता हुआ इतिहास देता है गवाई
जैसा की आप जानते ही हैं की अंग्रेज़ों को भारतीय शब्दों का उच्चारण में कठिनाई होती है अत: जब भारत में वे राज्य करने लगे तो बहुत से स्थानों का नाम उन्होंने सुविधानुसार बदल दिया । यहाँ , सुविधा का तात्पर्य उनकी जीभ की बनावट से था ।
अंग्रेज़ी भाषा में जब “ m” और “ b” एक साथ प्रयुक्त होते हैं तब अंग्रेज़ “ ब” का उच्चारण नहीं करते , हम भारतीय कर लेते हैं ।
जैसे dumb का उच्चारण अंग्रेज़ “ डम” और भारतीय “डम्ब “ के रूप में करता है । दूसरा उदाहरण Plumber का देख लीजिए । अंग्रेज इसे “प्लमर “ उच्चारित करता है और भारतीय “प्लम्बर “ ।
अब रिवर्स एन्जयरिंग समझिए । जैसे भारत के एक राज्य का नाम “ जम्बू काश्मीर “ था तो अंग्रेज़ी में जम्बू को Jambu लिखा गया पर अंग्रेज़ Jambu को जमू ही उच्चारित कर पाएगा , अपनी भाषा और अपनी ज…

एलोरा के कैलाश मंदिर का रहस्य जानकर चौंक जाएंगे

नमस्कार दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम एलोरा के कैलाश मंदिर के रहस्यों के बारे मै जानकारी प्राप्त करेंगे 

एलोरा का कैलाश मंदिर अजीब रहस्यों से भरा हुआ है 
कैलाश मंदिर को हिमालय के कैलाश का रूप देने में एलोरा के वास्तुकारों ने कोई भी कमी नहीं छोड़ी। शिव का यह दो मंजिला मंदिर पर्वत की ठोस चट्टान को काटकर बनाया गया है। 
एलोरा का कैलाश मन्दिर महाराष्ट्र के औरंगाबाद ज़िले में प्रसिद्ध 'एलोरा की गुफ़ाओं' में स्थित है। यह मंदिर दुनिया भर में एक ही पत्‍थर की शिला से बनी हुई सबसे बड़ी मूर्ति के लिए प्रसिद्ध है। इस मंदिर को तैयार करने में क़रीब 150 वर्ष लगे और लगभग 7000 मज़दूरों ने लगातार इस पर काम किया। पच्‍चीकारी की दृष्टि से कैलाश मन्दिर अद्भुत है। मंदिर एलोरा की गुफ़ा संख्या 16 में स्थित है। इस मन्दिर में कैलास पर्वत की अनुकृति निर्मित की गई है 
गुफ़ाएँ 
एलोरा में तीन प्रकार की गुफ़ाएँ हैं- 
महायानी बौद्ध गुफ़ाएँ 
पौराणिक हिंदू गुफ़ाएँ 
दिगंबर जैन गुफ़ाएँ 
इन गुफ़ाओं में केवल एक गुफ़ा 12 मंजिली है, जिसे 'कैलाश मंदिर' कहा जाता है। मंदिर का निर्माण राष्ट्रकूट शासक कृष्ण प्रथम ने करवया …