Skip to main content

Ritesh Deshmukh biography movies songs birthday

रितेश देशमुख की जीवनी

Ritesh Deshmukh biography
Ritesh Deshmukh biography


रितेश देशमुख का जन्म
रितेश देशमुख का जन्म 17 दिसंबर 1978 को विलास राव देशमुख के यहाँ हुआ था। रितेश देशमुख ने हमेशा अपने व्यावहारिक स्वभाव से अपने प्रशंसकों को अपना प्रिय बनाया है।
Ritesh Deshmukh biography in hindi
Ritesh Deshmukh biography in hindi



 रितेश देशमुख की पढ़ाई
रितेश देशमुख ने आर्किटेक्चर पर्यावरण अध्ययन के लिए कमला रहेजा विद्यानिधि इंस्टीट्यूट से अपनी वास्तुकला की डिग्री पूरी की और फिर एक साल तक एक विदेशी वास्तु फर्म में रहे। रितेश देशमुख ने न्यूयॉर्क के प्रसिद्ध ली स्ट्रैसबर्ग थिएटर स्कूल से स्नातक की उपाधि हासिल की थी।




Ritesh deshmukh ki shadi
Ritesh deshmukh ki shadi
रीतेश देशमुख की शादी
रितेश देशमुख आठ साल तक भारतीय फिल्म अभिनेत्री जेनेलिया डिसूजा के साथ रहे। रितेश और जेनेलिया ने 3 फरवरी 2012 को चर्च विवाह और मराठी परंपराओं से विवाह किया।
Ritesh deshmukh ki wife
Ritesh deshmukh 




Ritesh deshmukh ki filme
Ritesh deshmukh ki filme

रितेश देशमुख का फिल्मी करियर
रितेश ने वर्ष 2003 में फिल्म “तू मेरी कसम” से अपने फिल्म कैरियर की शुरुआत की थी, जो एक बहुत ध्यान देने योग्य फिल्म नहीं थी। हालाँकि वर्ष 2004 में उनकी एक और फिल्म “मस्ती” रिलीज हुई, जो बॉक्स ऑफिस पर काफी सफल रही थी। उसके बाद रितेश ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और बहुत ही कम समय में सफलता हासिल करते चले गए।
Ritesh deshmukh ke gane


वर्तमान समय में हिन्दी फिल्म उद्योग में रितेश देशमुख को सबसे अच्छे हास्य अभिनेताओं में से एक माना जाता है, जो काफी सरलता से हास्य भूमिकाएं निभाने में सक्षम है। 


Ritesh deshmukh ka birthday



हास्य प्रेमियों के लिए रितेश देशमुख पसंदीदा अभिनेताओं में से एक हैं। बहुत कम हास्य अभिनेताओं के बीच, रितेश देशमुख अपनी क्षमता और कुशलता के साथ, हास्य भूमिकाओं में शानदार प्रदर्शन के लिए कई पुरुस्कार प्राप्त कर चुके हैं। रितेश देशमुख ने हमेशा हास्य प्रेमियों को एक हास्य अभिनेता के रूप में अपनी भूमिका में प्राकृतिक प्रवाह व समय के साथ सटीक संवाद और उसका सटीक अर्थ प्रस्तुत करके आनंदित किया है।



रितेश देशमुख को बहुत से अवॉर्ड भी मिल चुके है


Ritesh deshmukh ki movies
Ritesh deshmukh ki movies

रितेश देशमुख की मुख्य फ़िल्में
हाउसफुल 4, तेरे नाल लव हो गया ,  हाउसफुल 2, क्या सुपर कूल हैं हम, फालतू, डबल धमाल, रण, जाने कहाँ से आई है, हाउसफुल, डू नॉट डिस्टर्ब, अलादीन, दे ताली ,चमकू, कैश, हे बेबी  ,धमाल ,अपना सपना मनी मनी, डरना जरूरी है, मालामाल वीकली ,क्या कूल हैं हम, मिस्टर या मिस ,ब्लफमास्टर, मस्ती, नाच तुझे मेरी कसम, आउट ऑफ कन्ट्रोल,
आदि बहुत सी मजेदार फिल्मों में अपने दमदार अभिनय से दर्शकों का मनोरंजन किया है

तो दोस्तो ये थी रितेश देशमुख के जीवन की कुछ महत्पूर्ण जानकारी अगर आपको अच्छी लगी तो इसे शेयर जरुर करें मिलते है किसी और पोस्ट में तब तक के लिए आपका धन्यवाद

ये भी पढ़ें 👇 

Amitbh Bachchan Biography 


Nora fatehi Biography

Comments

Popular posts from this blog

मंदोदरी के पिता का क्या नाम था ? पूर्व जन्म की कथा

मंदोदरी के पिता का क्या नाम था

नमस्कार दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम मंदोदरी के पूर्व जन्म की कथा की जानकारी आपको देंगे

 साथ ही मंदोदरी कि कुछ सूक्ष्म जानकारी भी आपको देंगे की मंदोदरी के पिता का क्या नाम था

 तो दोस्तो आज मे हम आपके इन्हीं सवालों के जवाब इस पोस्ट में दूंगा 


मंदोदरी कोन थी :- पुरानी कथाओं के अनुसार बताते है की मंदोदरी एक मेंढकी थी एक समय बात है ! 

सप्तऋषि खीर बना रहे थे उस खीर में एक सर्प गिर गया ये सब मंदोदरी ने देख लिया


 ऋषियों ने नहीं देखा तो मंदोदरी जो कि एक मेंढकी थी वो ऋषियों के देखते देखते उनके खाने से पहले उनकी खीर बना रहे पात्र में गिर गई 


ऋषियों ने ये सब देख लिया तो अब जिस भोजन में अगर मेंढक गिर जाए उसे कोन खाए 


इसलिए उन्होंने उस खीर को फेक दिया जैसे ही उन्होंने खीर को फैका उसमे से मेंढकी के साथ एक सर्प भी निकला 


ऋषियों ने समझ लिया कि इस मेंढकी  ने हमे बचाने के लिए अपने प्राण त्याग दिए उन्होंने मंदोदरी को वापस जीवन दान दिया और एक कन्या का रूप दिया तब से कहा जाता हैं की मंदोदरी सप्तऋषियों की संतान थी


अब मंदोदरी सप्तऋषियों के साथ ही रहने लगी मगर ऋषियों ने  सोचा कि एक कन्य…

युधिष्ठिर को धर्म राज क्यो कहा जाता हैं ?

नमस्कार दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम बात करेंगे कि युधिष्ठिर को धर्म राज क्यो कहा जाता हैं क्या इसमें कुछ रहस्य है अगर है तो वो क्या है जिससे कि युधिष्ठिर को धर्म राज की उपाधि मिली 

अगर आपके मन में भी ये सवाल जागा है तो आप सही जगह आ गए हैं में इस पोस्ट हम आज आपके इसी सवाल का जवाब देने की कोशिश करेंगे 

दोस्तो युधिष्ठर की धर्मराज उपाधि की कहानी को समझने से पहले हमें यमराज की छोटी सी कहानी को समझना जरूरी है पर आप घबराइए नहीं ये कहानी बिल्कुल सूक्ष्म होगी तो चलिए शुरू करते है


हिंदू धर्म शास्त्रों में यम को मृत्यु का देवता माना गया है। यमलोक के राजा होने के कारण वे यमराज भी कहलाते हैं। यम सूर्य के पुत्र हैं और उनकी माता का नाम संज्ञा है। उनका वाहन भैंसा और संदेशवाहक पक्षी कबूतर, उल्लू और कौवा भी माना जाता है। उनका हथियार गदा है। यमराज अपने हाथ के कालसूत्र या कालपाश रखते हैं, जिससे वे किसी भी जीव के प्राण निकाल लेते हैं। कहते हैं जब जीवित प्राणी का संसार में काम पूरा हो जाता है तो उसके शरीर से प्राण यमराज अपने कालपाश से खींच लेते हैं, ताकि प्राणी फिर नया शरीर व नया जीवन शुरू कर सके। यमपुरी यम…

सूर्पनखा का असली नाम क्या था ! सूर्पनखा के पति का नाम क्या था ! Surpankha

सूर्पनखा का असली नाम क्या था [ surpankha ka asali name kya tha ]
सूर्पनखा के पति का क्या नाम था [ surpankha ke pati ka kya name tha ] 

नमस्कार दोस्तों आज के इस ब्लॉग में हम बात करेंगे कि रावण की बहन सुरपंखा या सूर्पनखा के पति का क्या नाम था और सूर्पनखा का असली नाम क्या था

दोस्तो सूर्पनखा रावण की बहन थी उसका असली नाम सूप नखा था जिसका अर्थ होता है सुंदर नाखूनों वाली 

क्योंकि सूर्पनखा इतनी सुंदर थी कि पुरुष उसके नाखूनों को देखकर ही मोहित हो जाते थे इसलिए उसका नाम सूप नखा पड़ा 


सूर्पनखा के पति का क्या नाम था :- सूर्पनखा के पति का नाम विधुतजिव्ह था जो कि कालकेय नाम के राजा का सेनापति था एक बार कालकेय ओर रावण में युद्ध हो गया और कालकेय की सेना का नेतृत्व जहा विधुतजिव्ह कर रहा था तो दूसरी ओर रावण की सेना का नेतृत्व स्वयं रावण कर रहा था

विधुतजिव्ह के सामने परिस्थिति कठिन थी क्योंकि उसका कर्तव्य बनता था कि अपने राज्य की रक्षा करे मगर ऐसा करता है तो सामने उसका खुद का शाला ही था 

सूर्पनखा ने रावण को समझाया था कि कालकेय की राजधानी पर आक्रमण मत करो मगर रावण अपने राज्य के विस्तार की लालसा में अंधा हो ग…