Skip to main content

जानी चोर छत्री सुल्तान निहालदे की कथा / jani chatri sultan chor ki katha

जानी चोर की कथा /jani chor ki katha

नमस्कार दोस्तों
आज में आपको राजस्थान कि एक ऐसी कहानी सुनाने जा रहा जो इतिहास के पन्नों में कहीं गुम हो गई है जी हां दोस्तो आज में आपको जानी चोर छत्री सुल्तान निहालदे की कथा सुनाऊंगा 

छत्री सुल्तान की कथा
तो दोस्तो राजस्थान के किंचकगढ़ में राजा मैनपाल का राज था मैनपाल के पिता का नाम चकवबेन था और राजा मेनपाल के पुत्र का नाम छत्री सुल्तान था छत्री सुल्तान के बचपन का एक मित्र था जिसका नाम जानी था मगर किन्हीं कारणों से जानी चोरी करने लगा इसलिए उसका कोई ठिकाना नहीं रहता था ! आज यहां तो कल वहा 

 छत्री सुल्तान बहुत ही खूबसूरत था छत्री सुल्तान पर एक ब्राह्मणों की लड़की का दिल आ गया उस लड़की ने छत्री सुल्तान से शादी करने को कहा पर मगर सुल्तान ने उसका प्रस्ताव ठुकरा दिया 

 लड़की  ने सुल्तान से बदला लेने का मन बना लिया उस लड़की ने राजा मैन पाल के पास जाकर छत्री सुल्तान पर झूठे आरोप लगा दिए इससे राजा मैनपल क्रोधित होकर छत्री सुल्तान को 12 साल का देश निकाला दे दिया 
छत्री सुल्तान किंचक गढ़ से केशवगढ़ चला गया और वहां पर नोकरी करने लगा केशवगढ़ के राजा का लड़का एक आंख से अंधा था उस लड़के की शादी का प्रस्ताव आया राजा ने सोचा कि अगर में अपने इस लड़के को शादी में लेकर जाऊंगा तो मेरी हंसी हो जाएगी 

तो राजा ने अपने नौकर छत्री सुल्तान को ये बात बताई कि तुम्हे शादी करनी है मगर शादी होने के बाद तुम यहां से चले जाओगे छत्री सुल्तान ने हामी भर दी छत्री सुल्तान की शादी निहालदे से हो गई मगर छत्री सुल्तान ने उसी वक्त निहालदे को सारी बात बता दी और कहा कि अगर तुम्हे केसवगढ़ के राजकुमार के साथ जाना है तो चली जाओ और अगर तुम्हे मेरे साथ रहना है तो तुम यहीं अपने मायके में रहो में 12 साल बाद आऊंगा तुम और तुम्हे यहां से ले जाऊंगा में यहां नहीं रुक सकता क्योंकि मैंने केशवगढ़  के महाराज को वचन दे दिया है कि में यहां से चला जाऊंगा 

निहालदे ने कहा कि मेरी शादी आपसे हुई है में किसी और के साथ नहीं जा सकती में आपका इंतजार करूंगी छत्री सुल्तान वहा से नरवलगढ़ आ गया नरवल गढ़ के राजा का नाम था ढोला और रानी का नाम मारू था राज काज का सारा भार रानी मारू पर ही था वहा एक अत्याचारी डाकू का खौफ था छत्री सुल्तान की वहा जाते ही उस डाकू से भेंट हो गई और उसे मार दिया और उसके कान काटकर अपने पास रख लिया जब पूरे नगर में ये बात पता चली कि डाकू मारा गया और उसके कान मारने वाले ने काट लिया तो नरवल गढ़ की महारानी ने हुकुम दिया कि जो भी डाकू के कान लेकर आएगा उसे राज्य का मंत्री बना देंगे छत्री सुल्तान ने उसके कान ले जाकर मारू को दिए तो मारू ने उसको नरवलगढ़ का मंत्री बना दिया और मारू छत्री सुल्तान की धर्म बहन बन गई

छत्री सुल्तान वहा ही रहे जैसे ही 12 साल बीते निहालदे को पता चला गया कि छत्री सुल्तान मारू के यहां मंत्री पद पर है तब उन्होंने मारू को पत्र लिखा कि मेरा पति आपके पास है उन्हें भेजो तब छत्री सुल्तान मारू से ये कहकर आ गया कि मारू जब भी तुम्हारे बच्चो की शादी हो मुझे याद कर लेना 

कई वर्षों बाद मारू की लड़की कि शादी तय हो गई तो मारू ने अपने पति ढोला से कहा कि में छत्री सुल्तान को भात नुत कर आऊंगी तो ढोला ने मारू से ये कह दिया कि उसके पास देने को क्या है जो तुम उसे भात नुत कर आ रही हो मारू ने कह दिया कि आपके जैसे तो छत्री सुल्तान के बगो का माली है और मेरी जैसी छत्री सुल्तान के पानी भरने वाली है इस बात से ढोला नाराज हो गया उसने मारू से कह दिया अगर ऐसे नहीं हुए तो में तुम्हे वहा ही छोड़कर आऊंगा मारू ने कहा ठीक है

अब मारू ने छत्री सुल्तान को एक पत्र लिखा कि भाई में तुम्हे भात नूतन आ रही हूं पर मैंने मेरे पति से ये कह दिया है कि मेरी जैसी तो तेरे पानी भरती है और मेरे पति जैसे सब्जी बेचने वाले है मेरे ये दोनों काम कर देना वरना मुझे मेरा पति वहीं छोड़ कर आ जाएंगे 

छत्री सुल्तान ने अपने मित्र ज्यानी चोर को बुलाया और सारी बात बता दी जानी चोर ने कहा कि देख सब्जी बेचने वाला में बन जाऊंगा और तुम अपनी पत्नी को पानी भरने वाली बना देना जब ढोला ओर मारू उनके राज्य में आए तो जानी को फल और सब्जियां बेचने वाला बना के उनके पास भेज दिया मारू ने दिखा दिया कि देख तुमसे भी आच्छा है ये फल बेचने वाला मारू का एक वचन पूरा हो गया अब थोड़ी देर बाद निहाल दे पानी भरने वाली बन कर आ गई तो मारू ने उनको भी दिखाया और ढोला से कहा मुझसे भी ज्यादा सुंदर ये छत्री सुल्तान के पानी भरने वाली है मारू के दोनों वचन पूरे हो गए अब मारू भात नुत कर चली गई

छत्री सुल्तान और जानी चोर मारू के भात भरने के लिए चल पड़े रास्ते में अदली गढ़ के पास एक नदी थी दोनों मित्र नदी के किनारे आराम करने के लिए रुके वहा छत्री सुल्तान नदी में पानी पीने के लिए गया उसे नदी में बहता हुआ ताम्र पत्र मिला उसने उठा कर पढ़ा ताम्र पत्र में लिखा हुआ था में मेरा नाम महक दे है में राजा अदली खान पठान की कैद में हूं जिस किसी को भी ये ताम्र पत्र मिले वो पहले मुझे बचाए 

छत्री सुल्तान चिंता में पड़ गया तो जानी चोर ने कहा सुल्तान तुम जाओ मारू के भात भरो में महक दे को छुड़ा कर लाता हूं फिर जानी चोर आदली गढ़ में जाकर महक दे रानी को छुड़ाकर लाया और मारू के दोनों मित्र मिलाकर भात भरे 

ये कहानी बिल्कुल सत्य है जिसके प्रमाण राजस्थान में मिलते है तो दोस्तो कैसी लगी आपको ये कहानी नीचे कॉमेंट में जरुर बताए 

ये भी पढ़ें👇

मंदोदरी के पिता का नाम क्या था

सूर्पनखा का असली नाम क्या था

अहिल्या के पिता का क्या नाम था

सबरी के माता पिता का क्या नाम था 

कर्ण को कवच क्यो और कैसे मिला

रक्षा बंधन कब से शुरू हुआ

सुमाली कोन था 

अगस्त्य ऋषि कोन थे

पुलस्त्य ऋषि के ससुर का नाम क्या था


रावण के नाना नानी का नाम क्या था

रावण कोन था



इसी तरह के पोस्ट पढ़ने के लिए हमारे ब्लॉग को फॉलो करें 
पोस्ट पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद

Comments

Popular posts from this blog

मंदोदरी के पिता का क्या नाम था ? पूर्व जन्म की कथा

मंदोदरी के पिता का क्या नाम था

नमस्कार दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम मंदोदरी के पूर्व जन्म की कथा की जानकारी आपको देंगे

 साथ ही मंदोदरी कि कुछ सूक्ष्म जानकारी भी आपको देंगे की मंदोदरी के पिता का क्या नाम था

 तो दोस्तो आज मे हम आपके इन्हीं सवालों के जवाब इस पोस्ट में दूंगा 


मंदोदरी कोन थी :- पुरानी कथाओं के अनुसार बताते है की मंदोदरी एक मेंढकी थी एक समय बात है ! 

सप्तऋषि खीर बना रहे थे उस खीर में एक सर्प गिर गया ये सब मंदोदरी ने देख लिया


 ऋषियों ने नहीं देखा तो मंदोदरी जो कि एक मेंढकी थी वो ऋषियों के देखते देखते उनके खाने से पहले उनकी खीर बना रहे पात्र में गिर गई 


ऋषियों ने ये सब देख लिया तो अब जिस भोजन में अगर मेंढक गिर जाए उसे कोन खाए 


इसलिए उन्होंने उस खीर को फेक दिया जैसे ही उन्होंने खीर को फैका उसमे से मेंढकी के साथ एक सर्प भी निकला 


ऋषियों ने समझ लिया कि इस मेंढकी  ने हमे बचाने के लिए अपने प्राण त्याग दिए उन्होंने मंदोदरी को वापस जीवन दान दिया और एक कन्या का रूप दिया तब से कहा जाता हैं की मंदोदरी सप्तऋषियों की संतान थी


अब मंदोदरी सप्तऋषियों के साथ ही रहने लगी मगर ऋषियों ने  सोचा कि एक कन्य…

युधिष्ठिर को धर्म राज क्यो कहा जाता हैं ?

नमस्कार दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम बात करेंगे कि युधिष्ठिर को धर्म राज क्यो कहा जाता हैं क्या इसमें कुछ रहस्य है अगर है तो वो क्या है जिससे कि युधिष्ठिर को धर्म राज की उपाधि मिली 

अगर आपके मन में भी ये सवाल जागा है तो आप सही जगह आ गए हैं में इस पोस्ट हम आज आपके इसी सवाल का जवाब देने की कोशिश करेंगे 

दोस्तो युधिष्ठर की धर्मराज उपाधि की कहानी को समझने से पहले हमें यमराज की छोटी सी कहानी को समझना जरूरी है पर आप घबराइए नहीं ये कहानी बिल्कुल सूक्ष्म होगी तो चलिए शुरू करते है


हिंदू धर्म शास्त्रों में यम को मृत्यु का देवता माना गया है। यमलोक के राजा होने के कारण वे यमराज भी कहलाते हैं। यम सूर्य के पुत्र हैं और उनकी माता का नाम संज्ञा है। उनका वाहन भैंसा और संदेशवाहक पक्षी कबूतर, उल्लू और कौवा भी माना जाता है। उनका हथियार गदा है। यमराज अपने हाथ के कालसूत्र या कालपाश रखते हैं, जिससे वे किसी भी जीव के प्राण निकाल लेते हैं। कहते हैं जब जीवित प्राणी का संसार में काम पूरा हो जाता है तो उसके शरीर से प्राण यमराज अपने कालपाश से खींच लेते हैं, ताकि प्राणी फिर नया शरीर व नया जीवन शुरू कर सके। यमपुरी यम…

सूर्पनखा का असली नाम क्या था ! सूर्पनखा के पति का नाम क्या था ! Surpankha

सूर्पनखा का असली नाम क्या था [ surpankha ka asali name kya tha ]
सूर्पनखा के पति का क्या नाम था [ surpankha ke pati ka kya name tha ] 

नमस्कार दोस्तों आज के इस ब्लॉग में हम बात करेंगे कि रावण की बहन सुरपंखा या सूर्पनखा के पति का क्या नाम था और सूर्पनखा का असली नाम क्या था

दोस्तो सूर्पनखा रावण की बहन थी उसका असली नाम सूप नखा था जिसका अर्थ होता है सुंदर नाखूनों वाली 

क्योंकि सूर्पनखा इतनी सुंदर थी कि पुरुष उसके नाखूनों को देखकर ही मोहित हो जाते थे इसलिए उसका नाम सूप नखा पड़ा 


सूर्पनखा के पति का क्या नाम था :- सूर्पनखा के पति का नाम विधुतजिव्ह था जो कि कालकेय नाम के राजा का सेनापति था एक बार कालकेय ओर रावण में युद्ध हो गया और कालकेय की सेना का नेतृत्व जहा विधुतजिव्ह कर रहा था तो दूसरी ओर रावण की सेना का नेतृत्व स्वयं रावण कर रहा था

विधुतजिव्ह के सामने परिस्थिति कठिन थी क्योंकि उसका कर्तव्य बनता था कि अपने राज्य की रक्षा करे मगर ऐसा करता है तो सामने उसका खुद का शाला ही था 

सूर्पनखा ने रावण को समझाया था कि कालकेय की राजधानी पर आक्रमण मत करो मगर रावण अपने राज्य के विस्तार की लालसा में अंधा हो ग…