Skip to main content

Posts

Showing posts from March, 2020

New deadly 'Hanta' virus arrives in China amid Corona, one dead

China has not even been able to get out of the grip of Corona virus completely that there are reports of a new virus outbreak. According to the Chinese government media institute Global Times, a new virus has spread in the province of Greece of China. One person has died due to this. Its name is Hantavirus.

According to the Global Times, the person suffering from Lanta virus was returning from the bus to Shandong province. Then the virus was detected during the investigation of Corona. There were a total of 32 people on this bus. All passengers were investigated. Ever since China shared this information. There has been an uproar on social media since then

According to the US Center for Disease and Control, the Huta virus is found in the feces, urine, and sputum of mice. This infects humans when rats release it into the air. Hantavirus enters the body through the breath

Corona virus: The body needs these 3 vitamins to increase immunity

The number of corona virus patients is increasing rapidly in India. So far 333 cases have been reported. While more than two lakh people have fallen victim to it all over the world. Health experts say that people of weak immunity fall prey to this virus. According to diet and health expert Julia Jumpano, three types of vitamins can boost human's immune system. If this happens, every kind of disease will remain away from your body.

vitamin C- Health experts consider vitamin C a good source of the immune system. Lack of vitamin C in the body means feasting on many diseases. For vitamin C, it is important to include some things in the diet.

A large amount of vitamin C is found in orange, seasonality, kinnu, strawberry, capsicum, spinach and broccoli. You must include these things in your daily diet. A lot of vitamin C is also found in dragon fruit.

It is a good thing that vitamin C is easily available to people, because there are many things which are usually found in the diet of people…

Coronaviras की संपूर्ण जानकारी ! कैसे फैलता है ! कितने मरीज कहा कहां पाए गए हैं

नमस्कार दोस्तों आज हम बात करेंगे Coronaviras के बारे में की भारत में ये coronaviras किस स्पीड से बढ़ रहा है और सरकार कोरोनावायरस के खिलाफ कितनी सख्त दिखाई दे रही है और कोरोनावायरस की रोकथाम के लिए कोन कोन से कदम सरकार उठा रही हैं 

Coronaviras kaise faila [ कोरोनावायरस कैसे फैला ] 
Coronavairas की शुरुवात चीन के वुहान शहर से हुई वहा के कुछ मजदूर अचानक से बीमार पड़ने लगे वहा के एक मेडिकल के साइंटिस्ट ने जब उनकी बीमारी का सैंपल लेके आकलन किया तो पाया गया इन सभी मरीजों में एक वायरस कि समानता है जो कि हर मरीज के दिमाग के अंदर पाया गया है 

फिर उस viras की जांच शुरू हुई और ओर वहा के हाल ही में अचानक मरे हुए जीवो की जांच हुई पता चला कि ऐसा ही वायरस चमगादड़ों में भी था और उनकी मौत का कारण था फिर इस वायरस की उच्च कोटि की जांच में पता चला कि ये कोरोना वायरस है 

मगर चीन अंतरराष्टरीय क्षेत्र में इस बात को फैलाना नहीं चाहता था वह अपनी बदनामी से डर और अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार के कमी ना आ जाए इसलिए इस बात को छुपा लिया और कोरोना वायरस धीरे धीरे आधे वुहान शहर में फेल गया 

तब जिस साइंटिस्ट ने coronavirus की ज…

History of Lohagarh Fort and full visit information In English iron fort

Lohagarh fort : bharatpur fort : iron fort
Lohagarh fort is a major fort in the city of Bharatpur in Rajasthan which is named as strong metal iron, as this fort is one of the strongest forts of all time. If history is to be believed, this fort has been attacked many times, but this fort still stands up to date. Neither the Mughals nor the British had the power to break the wall of this fort. This fort complex contains many structures, most of which have been built as a symbol of victory.


The fort has an interesting museum which is part of its major monuments, which has much to please those interested in history. The Lohagad fort was originally constructed in 1730 by Maharaja Suraj Mal who used all his wealth and powers for a good purpose. If you want to know about other information of Lohagad Fort like history, architecture, museum, how to reach and good time to go, then this article will give you complete information.


Who Bulit The Lohagarh Fort Bharatpur In EnglishIn 1730 Lohagarh For…

सूर्पनखा का असली नाम क्या था ! सूर्पनखा के पति का नाम क्या था ! Surpankha

सूर्पनखा का असली नाम क्या था [ surpankha ka asali name kya tha ]
सूर्पनखा के पति का क्या नाम था [ surpankha ke pati ka kya name tha ] 

नमस्कार दोस्तों आज के इस ब्लॉग में हम बात करेंगे कि रावण की बहन सुरपंखा या सूर्पनखा के पति का क्या नाम था और सूर्पनखा का असली नाम क्या था

दोस्तो सूर्पनखा रावण की बहन थी उसका असली नाम सूप नखा था जिसका अर्थ होता है सुंदर नाखूनों वाली 

क्योंकि सूर्पनखा इतनी सुंदर थी कि पुरुष उसके नाखूनों को देखकर ही मोहित हो जाते थे इसलिए उसका नाम सूप नखा पड़ा 


सूर्पनखा के पति का क्या नाम था :- सूर्पनखा के पति का नाम विधुतजिव्ह था जो कि कालकेय नाम के राजा का सेनापति था एक बार कालकेय ओर रावण में युद्ध हो गया और कालकेय की सेना का नेतृत्व जहा विधुतजिव्ह कर रहा था तो दूसरी ओर रावण की सेना का नेतृत्व स्वयं रावण कर रहा था

विधुतजिव्ह के सामने परिस्थिति कठिन थी क्योंकि उसका कर्तव्य बनता था कि अपने राज्य की रक्षा करे मगर ऐसा करता है तो सामने उसका खुद का शाला ही था 

सूर्पनखा ने रावण को समझाया था कि कालकेय की राजधानी पर आक्रमण मत करो मगर रावण अपने राज्य के विस्तार की लालसा में अंधा हो ग…

सुमाली कोन था ! Sumali kon tha

नमस्कार दोस्तों आज के इस ब्लॉग में हम बात करेंगे कि रामायण में जिस सुमाली के बारे मैं बताया गया है वो सुमाली कोन था 


सुमाली कोन था [ sumali kon tha ] तो दोस्तो सुमाली रावण का नाना था इनकी पुत्री कैकसी की शादी विस्वश्रवा के साथ हुई थी और कैकसी रावण कुंभकरण विभीषण ओर सूर्पनखा की माता थी 


सूमली के पिता का क्या नाम था[ sumali ke pita ka kya name tha ]  
दोस्तो सुमाली के पिता का नाम सुकेश था और वह एक राक्षस कुल से संबंध रखता था 


सूमली के पूरे परिवार का वर्णन [ Sumali ke pure parivar ka parivhya ]राक्षस कुल में हेती और प्रेती नाम के दो राक्षस भाई थे हेती राक्षस का विवाह भया नाम की कन्या से हुआ था और ओर हेती और भया के कुछ दिनों बाद एक पुत्र ने जन्म लिया 

जिसका नाम था विधुत्केश और विधूतकेश के एक पुत्र ने जन्म लिया जिसका नाम था सुकेश 

फिर सुकेश के तीन पुत्र हुए जिनके नाम माल्यावान , सुमाली , माली था 

माल्यावान रावण की लंका में मंत्री पद पर कार्यरत थे इन्होंने रावण के कई उच्चस्तरीय सवालों को पूरा किया था ये राजनीत का अच्छा जानकर था रावण के कई अहम मुद्दों को इन्होंने हल किया था 

जब रावण ने सीता का हरण क…

Redmi Note 9 pro price in india

Redmi note 9 pro price in indiaBest mobile brand in 2020
Redmi का न्यू फोन redmi note 9 प्रो आ गया है तो जानते है इसकी खासियत और सबसे सस्ते दामों में कहा से खरीदे ये भी बताएंगे 


Redmi note 9 pro की खासियत 

Redmi note 9 pro ka prosesar :Redmi note 9 pro स्मार्टफोन में स्पीड और मल्टीटास्किंग के लिए क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 720जी प्रोसेसर का इस्तेमाल हुआ है


Redmi note 9 pro ki beterry Redmi note 9 pro में 5020MAh की बेहद ही पावरफुल बैटरी है जो कि इंटरनेट यूजर्स के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकती हैं 

Redmi note 9 pro ki screen Redmi note 9 pro में 6.67 इंच की फुल HD डिस्प्ले है जिसमें गोरिला ग्लास 5 का प्रोटेक्शन दिया गया है जो की बेहद ही जबरदस्त है


Redmi note 9 pro Ka camera Redmi note 9 proमें 4 रियर कैमरा दिया गया है 64 + 8 + 5 + 2 मेगापिक्सल का कॉम्बिनेशन है और फ्रंट में 16 मेगापिक्सल का कैमरा दिया गया है जो की आपके चांद से मुखड़े कि जबरदस्त फोटो क्लिक करता है

Redmi note 9 pro Ki Ram रेडमी नोट 9 प्रोमें 6 जीबी तक रैम और 128 जीबी तक स्टोरेज है। वहीं, दूसरी तरफ, रेडमी नोट 9 प्रो मैक्स में 8 जीबी …

दुनिया का पहला Helio G80 प्रोसेसर Realme 6i मोबाइल में होगा price in india

दुनिया का पहला Helio G80 प्रोसेसर Realme 6i मोबाइल में होगा
स्मार्टफोन के बाजार में Realme ले कर आ रहा है दुनिया का पहला Helio G80 प्रोसेसर जो Realme 6i smartphone में होगा 

तो आइए जानते है Realme 6i मोबाईल की खासियत



Realme 6i ki lonching :-इस मोबाइल की लॉन्चिंग डेट 17 मार्च है Realme mobile company ने साफ कर दिया है कि Realme 6i की लॉन्चिंग 17 मार्च को होगी



Realme 6i ki battery :- Realme 6i me 5000 MAh ki battery दी जाएगी जो कि इंटरनेट यूजर को काफी हद तक संतुष्ट करती हैं


Realme 6i ki price in india :- Realme 6i ki india में प्राइस लगभग 40000 तक पहुंच सकती हैं हालांकि Realme ने कन्फर्म नहीं किया है 

Coronavirus letest News in English

Coronavirus-letest-News-in-EnglishHeadlines:-• Google asked employees to work from home due to Coronavirus• Coronavirus has spread to over 100 countries so far. • Earlier Twitter had ordered its employees to work from home
Coronavirus (COVID-19) is now fully spread in countries other than China. Due to this virus, big companies like Apple and Samsung have suffered a lot, on the other hand many big events have also been canceled. Meanwhile, the world's leading search engine company Google has asked employees to work from home in the office in Bangalore. The company has taken this step to stop the virus from spreading. At the same time, Google says that we have taken this decision keeping the advice of health officials. Explain that an employee in Google's office in Bengaluru has been hit by a coronavirus, which has been sent to the isolation cell after investigation.

Due to Coronavirus, Twitter also asked its employees to work from home a few days ago. At the same time, Twitter h…

History of Nawalgarh ! Best Scenic Spots, Hotel in Nawalgarh

Nawalgarh

Where is nawalgarh locatedThe city of Nawalgarh is about 30 kilometers and 39 kilometers from the headquarters of Sikar and Jhunjhunu. It is directly connected by road to Jaipur, Delhi, Ajmer, Kota and Bikaner. Jaipur is about 145 kilometers from here, while the capital Delhi is located at a distance of about 250 kilometers. Nawalgarh is connected by broad gauge rail line on Jaipur-Luharu road. Heritage on Wheels, it is a luxury tourist train, which provides an opportunity to see Nawalgarh and Shekhawati closely.

When was Nawalgarh establishedNawalgarh was founded by Thakur Nawal Singh Ji Bahadur (Shekhawat) in 1737 AD. According to the experts of Shekhawati's written unwritten history, Shekhawati Rajputs dominated the Shekhawati region from the fifteenth century (1443) to the middle of the eighteenth century i.e. 1750. Then their empire was as far as Sikarwati and Jhunjhunwati. The area dominated by the Shekhawat Rajputs is called Shekhawati, but due to the uniformity in…

History of Jodhpur in english

History of jodhpur
Establishment of Jodhpur :-
Jodhpur was founded by a Rajput Rao Jodha (1438-89 AD) in 1459 and was the capital of the erstwhile Jodhpur princely state. The new capital was settled here, removed from Mandore. In order to secure the new capital, a fort was also built on the Chiditunk hill, which is still famous as the fort of Jodhpur.
History of jodhpur :-  Jodhpur became the possession of the Mughals in 1565 AD. Rao Chandrasen of Jodhpur state met Akbar in 1570 AD but Akbar considered his rival brother Mota Raja Uday Singh as the ruler of Jodhpur state. Chandrasen returned disappointed and protested throughout his life. After the invasion of Mughal Emperor Akbar in 1961, it accepted the dominance of the Mughals.
In 1679, the Mughal emperor Aurangzeb attacked and looted Marwar, forcing the inhabitants to accept Islam, but the princely states of Jodhpur, Jaipur and Udaipur formed an alliance and prevented Muslim control.
Thereafter, the princes of Jaipur and Jodhpur regai…

हरीराम जी के पिता माता भाई गुरु का क्या नाम था : Hariram ji ki katha

हरीराम जी महाराज की संपूर्ण कथा

नमस्कार दोस्तों आज में आपको राजस्थान के लोक देवता बाबा हरीराम जी महाराज की कहानी बताऊंगा ओर उनके जीवन में घटित कुछ महत्पूर्ण बाते बताऊंगा ।

हरीराम जी के परिवार का पूर्ण परिचय:- हरीराम जी पंड्या ब्राह्मण थे  हरीराम जी के पिता का नाम रामरतन ओर माता का नाम चदनी देवी था हरीराम जी के भाई का नाम मांगीलाल था हरीराम जी के गुरु का नाम भुरा राम था हरीराम जी के गांव का नाम झोरड़ा था जो कि सुजानगढ़ और नागौर के बीच में पड़ता है हरी राम जी सर्पो के देवता के रूप में पूजे जाते हैं 

हरीराम जी की संपूर्ण कथा :- 
एक बार की बात है हरीराम के गांव में संत भुरा राम जी सत्संग कर रहे थे तो वहां हरी राम जी भी चले गए और उनसे सत्संग सुनने लगे जब सत्संग पूरा हुआ तो सभी लोग चले गए पर हरीराम जी वहा ही रहे जब भूराराम जी ने पूछा तो हरीराम जी ने कहा कि गुरुजी मुझे सर्पो के दंस का इलाज बता दीजिए एक बार तो भूराराम जी ने मना कर दिया पर हरीराम जी के बार बार विनती करने पर भूराराम जी ने हरीराम जी को सर्प दंश का इलाज बता दिया 

हरीराम जी के पिता को ये इलाज करना उनका सत्संग में जाना अच्छा नहीं लगा तो…

हरि राम जी की कथा लिरिक्स ! Hari ram ji ki katha lyrics

हरिराम जी की कथा लिरिक्स Hariraam ji ki katha lyrics

मारवाड़ के बीच में नगर झोरडा गांव
रामरतन सूत्र लाडला जागो हरीराम जी नाम
हरिराम जी की कथा कहो सुनो ध्यान लगाए
भूल चूक मारी माफ करो रखियो मोरी लाज

हरिराम जी ने धावे जाना दुख मिट जावे हूं
धोरा री धरती रो सोचो देवता

नगर झोरड़ा में कोई साधुड़ा सा आया रे
बस्तीरा पावा लागण चालिया

सरा बस्ती रा लोग पावा लागण चाल्या रे
साथ तो हो गया रे हरिराम जी

धोंधालिए धोरा में गुरुजी काली नागण डोली जी
फोगा मैं घरनावे बैरन बांडली

एडी चाले टेडी चालें  टेढ़ा डंक लगावे जी
जहर तो फैला दें सारा गात मैं

दिन में हाली हलियो जोव सांझ पड़या घर आवे जी
सुता ने पी जावे बेरी पिवनों

बालाजी को धुपियो तू खेजे छोरा हरिया वो
भक्ति करजे भगवान की

रहनो पड़सी जुग में कंवरो छोरा हरिया र
बर्मचारी को पालन पाल जे

निचोड़ा घराम जाबो छोड़ छोरा हरिया र
आपा तो कहिजा ब्राह्मण दायमा

बालाजी की भभूती ले जावो मेरा काका जी
घोल तो पिलादयो काचा दूध म

अर्जी मांकी मर्जी थांकी सूंज्यो सुसरा म्हारा जी 
नाया की छोरी ने बोल्या बोलना

मोड़ो आयो बाणिया तू बिजा का ब्योपारी जी
बीज तो बेचाला महंगा मोल का

माणस बनाया थान क्यो ना भगवान जी
क…

जानी चोर छत्री सुल्तान निहालदे की कथा / jani chatri sultan chor ki katha

जानी चोर की कथा /jani chor ki katha

नमस्कार दोस्तों
आज में आपको राजस्थान कि एक ऐसी कहानी सुनाने जा रहा जो इतिहास के पन्नों में कहीं गुम हो गई है जी हां दोस्तो आज में आपको जानी चोर छत्री सुल्तान निहालदे की कथा सुनाऊंगा 

छत्री सुल्तान की कथा
तो दोस्तो राजस्थान के किंचकगढ़ में राजा मैनपाल का राज था मैनपाल के पिता का नाम चकवबेन था और राजा मेनपाल के पुत्र का नाम छत्री सुल्तान था छत्री सुल्तान के बचपन का एक मित्र था जिसका नाम जानी था मगर किन्हीं कारणों से जानी चोरी करने लगा इसलिए उसका कोई ठिकाना नहीं रहता था ! आज यहां तो कल वहा 

छत्री सुल्तान बहुत ही खूबसूरत था छत्री सुल्तान पर एक ब्राह्मणों की लड़की का दिल आ गया उस लड़की ने छत्री सुल्तान से शादी करने को कहा पर मगर सुल्तान ने उसका प्रस्ताव ठुकरा दिया 

 लड़की  ने सुल्तान से बदला लेने का मन बना लिया उस लड़की ने राजा मैन पाल के पास जाकर छत्री सुल्तान पर झूठे आरोप लगा दिए इससे राजा मैनपल क्रोधित होकर छत्री सुल्तान को 12 साल का देश निकाला दे दिया 
छत्री सुल्तान किंचक गढ़ से केशवगढ़ चला गया और वहां पर नोकरी करने लगा केशवगढ़ के राजा का लड़का एक आंख से अं…

तराईन का प्रथम युद्ध कब कहां क्यों और किनके बीच हुआ पूरी जानकारी

नमस्कार दोस्तों
आज के इस ब्लॉग में हम तराईन का प्रथम युद्ध  के बारे में चर्चा करेंगे की 
तराईन का प्रथम युद्ध किनके बीच हुआ तराईन का प्रथम युद्ध कब हुआ तराईन का प्रथम युद्ध किस वजह से हुआ



तराईन का प्रथम युद्ध किनके बीच हुआ :- तराईन का प्रथम युद्ध मोहम्मद गौरी और पृथ्वीराज चौहान के बीच हुआ 



तराईन का प्रथम युद्ध कब हुआ:- दोस्तो  तराईन का प्रथम युद्ध 1191 में लड़ा गया था इस युद्ध में  मोहम्मद गौरी के लगभग 1 लाख बीस हजार सैनिक थे तो दूसरी ओर चौहान के पास 3 लाख सैनिक थे

👉 एक कान कि वजह से ब्रिटेन ओर स्पेन में हुआ युद्ध

तराईन का प्रथम युद्ध किस वजह से हुआ :- मोहम्मद गौरी ने लाहौर पर आक्रमण करके लाहौर को जीत लिया था और उसने पंजाब भी लगभग लगभग जीत लिया था तब अजमेर के शासक पृथ्वीराज चौहान ने महोम्मद गौरी के बढ़ते कदम रोकने का निश्चय किया उन्होंने सभी राजपूत सेनाओं को एकत्रित किया और महोम्मद गौरी पर आक्रमण कर दिया और महोम्मद गौरी के आधीन किले हांसी और सरहिंद को जीत लिया इसी बीच उनके राज्य में विद्रोह हो गया वो वापस आ गए और पीछे से मोहम्मद गौरी ने वापस उन किलो को जीत लिया फिर पृथ्वीराज चौहान ने वापस …

प्रथम विश्व युद्ध के क्या कारण थे First World War ke kya karan the

प्रथम विश्व युद्ध के क्या कारण थे / First World War ke kya karan the



नमस्कार दोस्तों आज हम बात करेंगे प्रथम विश्व युद्ध [ First World War ] की ! 
 की ये प्रथम विश्व युद्ध [ First World War ] के शुरू होने के मुख्य क्या कारण थे 



प्रथम विश्व युद्ध [ First world war ] की शुरुआत 28 जुलाई 1914 को अस्ट्रिया के सर्बिया पर आक्रमण के साथ हुई आस्ट्रिया को भी ये नहीं पता था कि जिस युद्ध की शुरुआत की है वो 5 साल तक चलेगा और इस युद्ध में 1 करोड़ 70 लाख लोग मारे जाएंगे जिनमें 60 लाख लोग आम जनता होगी जिनका युद्ध से कोई लेना देना नही है और इस युद्ध में करीब 2 करोड़ से ज्यादा लोग घायल हो जाएंगे पर जिस युद्ध को आस्ट्रीया ने छेड़ा उस युद्ध के बहुत घातक परिणाम भुगतने पड़े यह युद्ध 11 नवम्बर 1918 को समाप्त हुआ 




प्रथम विश्व युद्ध का कारण नंबर 1 [ First world war reason/karan no 1 ] प्रथम विश्व युद्ध का सबसे मुख्य कारण था आस्ट्रीया के राजकुमार और उनकी पत्नी की सर्बिया में हत्या हो जाना जब युवराज आर्क ड्यूक फ्रांसिस फ्रडिंनेस अपनी पत्नी के साथ सर्बिया के बोस्निया की राजधानी सेराजेवा में गए हुए थे वहां 28 जून 1914 …