Skip to main content

रावण की सम्पूर्ण कथा, रावण की सम्पूर्ण जानकारी : Ravan ke dada ka naam

           रावण की सम्पूर्ण कथा
           रावण की सम्पूर्ण जानकारी
          रावण के पिता का नाम क्या था
          रावण के दादा का नाम क्या था
          रावण की माता का नाम क्या था
           रावण की दादी का नाम क्या था
          रावण के नाना का नाम क्या था
         रावण की नानी का नाम क्या था
         रावण की लंका किसने बनाई
         रावण कोन से गोत्र का था
         रावण कोन सी जाती का था

   
रावण की सम्पूर्ण कथा, रावण की सम्पूर्ण जानकारी,  रावण के पिता का नाम क्या था, रावण के दादा का नाम क्या था,  रावण की माता का नाम क्या था,  रावण की दादी का नाम क्या था, रावण के नाना का नाम क्या था, रावण की नानी का नाम क्या था,  रावण की लंका किसने बनाई,  रावण कोन से गोत्र का था, रावण कोन सी जाती का था
रावण की सम्पूर्ण जानकारी, रावण की सम्पूर्ण कथा
         

         

    बुराई का पालक या मानव जाति का हितैषी 


रावण के माता-पिता पुरे परिवार के सदस्यों का नाम  :- रावण के पिता का नाम ऋषि विशेश्रवा था तथा रावण की माता का नाम कैकसी था रावण के दादा का नाम पुलुस्तमुनी था तथा रावण की पत्नी का नाम मंदोदरी था तथा रावण रावण की बहन का नाम सुपनखा था

रावण के कितने पुत्र थे :-

रावण के पांच पुत्र थे जिनके नाम क्रमशः मेघनाथ, अक्षय कुमार, परास्त, नारायणतक, एवं अहीरावण था इनमे से तीन पुत्र रावण के पास लंका मे रहते थे जबकी अहीरावण पाताल का राजा था और नारायणतक किष्कंधा के आसपास रहता था रावण कि पुत्री का नाम कुम्भनिशि था रावण का सगा भाई कुम्भकरण था तथा एक कर पकङा भाई विभीषण था



रावण कोनसे गोत्र का ब्राह्मण था :- रावण शारस्वत गोत्र का ब्राह्मण था,



क्या रावण बुरा था :- दोस्तो आम जन मानुष की धारणा है की जब भी हम कभी कीसी बुरे आदमी को देखते है तो कहते है ये कलयुग का रावण है मतलब हम हर एक बुरे ईन्सान की तुलना रावण से करते है हम सभी के दिमाग मे ये अवधारणा पैदा कर दी गई है की रावण बुराई का पालक या प्रतिक है मतलब हम सभी का ब्रेन वाॅश किया गया है जैसे एक आतंकवादी का किया जाता है की आप दुनिया के किसी भी इन्सान को मारोगे तो वो एक जैहाद है आतंकवादी को सच से दुर रखा जाता है की जिहाद का मतलब अपने खुद की बुराईयो को मारना ईस तरह हमारे दिमाग मे भी ये चीज सदीयो से डाली गई है कि रावण बुरा था पर क्या सच मे रावण बुराई का पालक था तो आईये इन बातो का तर्क सहीत विश्लेषण करते है



: रावण ब्राह्मण कुल मे पैदा हुआ तथा ऋषियो की सन्तान था तथा चार वेद छ: शास्त्र और अठारह पुराण का ज्ञाता था उसे सब कुछ पता था की राम कोन है लक्ष्मण कोन है सीता कोन है रावण ने स्वंय भी कहा है :- जान्मं रामम् मधुसूदनम् जानम् लक्ष्मणम् शेषावतारम् जानम् सीता स्वप्र्णी

की मे जानता हु कि राम विप्णु का अवतार है लक्ष्मण शेषावतार  है सीता माता लक्ष्मी का अवतार है ।


: मतलब  रावण को सब कुछ पता था फिर भी वो सब कुछ जान बुझ कर कर रहा था क्योंकि जिससे उसकी मोक्ष हो जाये अब आपके मन मे भी ये प्रश्न उठा होगा की अगर रावण सीता का हरण न करता और श्री राम की शरण मे चला जाता तो भी उसकी मोक्ष हो जाती तो उसे इतनी बुराई भी नही मिलती पर आप जरा सोचिए रावण श्री राम की शरण चला जाता तो फिर उसे श्री राम से युद्ध नही करना पड़ता और अगर उसके और श्री राम के बीच युद्ध ना होता तो लंका मै ऐसे ऐसे बलवान योद्धा थे उनकी मोत/मोक्ष कैसे होती जैसे मेघनाथ को वोही योद्धा मार सकता था जिसने नींद नारी अन्न का 12 साल तक परित्याग कीया हो और लक्ष्मण जी ऐसे योद्धा थे जिसने नींद नारी अन्न का 12 साल तक परित्याग किया था तो राम रावण का युद्ध ना होता तो लक्ष्मण जी मेघनाथ को क्यो मारते और लक्ष्मण जी नही मारते तो उनकी मोत नही होती मेघनाथ जैसे अनेक योद्धा लंका मे मौजूद थे तो इस कारण रावण ने श्री राम से युद्ध कीया और सीता का हरण किया



सिता के हरण के अलावा रावण का आप कोई ऐसा कार्य बता तो जिससे मानव जाती का हनन या नुकसान होता हो आप नीचे कमेंट करके बता सकते है पर मुझे यकीन है आप नही बता पायेंगे क्योकि उसने और कुछ गलत कीया ही नही तो आप कहा से बता पायेगे



रावण का मानव जाति के हित मे किये कार्य :- कहते है रावण एक बार यमराज से मिलने को गये वहा पर उसने देखा कि यहा पर 14 नर्क कुण्ड है और प्रथ्वी से जैसे ही मनुष्य लाया जाता है उसे नर्क कुण्ड मे डाल देते है रावण से यह देखा नही गया और उन्होने यमराज से कहा की इन सभी कुण्डो को बन्द कर दो ( यमराज जो की रावण का आदेश टाल भी नही सकता था क्योकि आदेश टालना मतलब रावण से शत्रुता करना था जो यमराज को बङा नुकसान पहुचा सकती थी और अगर आदेश मान भी ले तो प्रथ्वी पर लोगो के मन मे नर्क का भय ना रहेगा और वो बुराई पर बुराई करेगे) तो ईसलिये यमराज ने एक रास्ता निकाला उसने रावण से कहा कि आप के कहने से मे 7 नर्क कुण्डो को बन्द कर देता हु और आप जब दुबारा यहा आयेगे तो 7 को और कर देगे रावण ने कहा की ठीक है ऐसा ठीक रहेगा ईस तरह मानव हित के लिए रावण ने 7 नर्क कुण्ड बन्द करवा दीये तो अब आप बताईये कैसे आप रावण को राक्षस या बुराई का पालक कहेगे



रावण के मानव हीत के लिए विचारे गये कार्य जिसे रावण पुरा ना कर पाया :- रावण ने सात कार्य बिचारे थे जो मानव हित मे थे पर उसे रावण पुरा नही कर पाया

एक अग्नि अच्छी वस्तु है मनुष्य के जीने मरने मे काम आती है मगर ईसमे धुआँ है इसे बन्द कर दुं और वह कर सकता था क्योकि अग्निदेव उसकी लंका मे रसोई बनाता था पर उसने सोचा फिर कभी कर दुगा और नही कर पाया

दुसरा सोना अच्छी वस्तु है बहुत सुन्दर होता है पर ईसमे सुगंध नही ईसमे सुगंध कर दु तो बहुत अच्छा हो और कर वो कर सकता था क्योकि कुबेर उसके यहा खजांची था पर उसने सोचा फिर कभी कर दुगा और नही कर पाया

तिसरा प्रथ्वी से लेकर स्वर्ग तक सीढ़ीयो का निर्माण करा दु तो हर एक मनुष्य अपने परिवार जनो से मिलकर आ सके और यह कार्य वह कर सकता था क्योकि विश्वकर्मा जी उसकी लंका मे टुठ फुठ सुधारता था पर उसने सोचा फिर कभी कर दुंगा और नही कर पाया

चौथा कार्य उसने सोचा लंका के चारो तरफ समुद्र है वह खारा है तथा पानी पे काई आ जाती है तो पानी को दूषित कर देती है मे ईस पानी को मिठा तथा काई को नष्ट कर दु और यह कार्य कर सकता था क्योकि वरूण देव उसकी लंका मे पानी भरता था पर उसने सोचा फिर कभी कर दुगा और नही कर पाया

पाचवा कार्य उसने सोचा कि हर एक मनुष्य को ये काल खा जाता है और उसकी म्रत्यु हो जाती है तथा जब मा के सामने उसका बेटा मरता है तो उसे बङा दुख होता है मे इस काल को ही मार डालु जिससे किसी की मौत ना हो और वह यह कार्य कर सकता था क्योकि काल उसकी पलंग के पाये से बंधा हुआ था पर उसने सोचा फिर कभी कर दुगा और कल कल करते वो काल उसका ही बन बैठा



तो अब आप बताईये ये सब कार्य उसने मानव जाति के हित मे बिचारे थे तो कैसे वो बुरा हो सकता है फिर भी हम उसे बुराई का प्रतीक मानते है उसके पुतले को  हर साल जलाकर खुश होते है कैसी विडंबना है

अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें
आप एक बार जरूर सोचना और कमेंट मे बताना की वास्तम मे रावण बुरा था या अच्छा



पोस्ट पढने के लिए आपका धन्यवाद

Not:ये सभी बाते रामायण जि तथा अन्य श्रोत तथा किवदंती के अनुसार बताई गई हैं

Comments

Popular posts from this blog

मंदोदरी के पिता का क्या नाम था ? पूर्व जन्म की कथा

मंदोदरी के पिता का क्या नाम था

नमस्कार दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम मंदोदरी के पूर्व जन्म की कथा की जानकारी आपको देंगे

 साथ ही मंदोदरी कि कुछ सूक्ष्म जानकारी भी आपको देंगे की मंदोदरी के पिता का क्या नाम था

 तो दोस्तो आज मे हम आपके इन्हीं सवालों के जवाब इस पोस्ट में दूंगा 


मंदोदरी कोन थी :- पुरानी कथाओं के अनुसार बताते है की मंदोदरी एक मेंढकी थी एक समय बात है ! 

सप्तऋषि खीर बना रहे थे उस खीर में एक सर्प गिर गया ये सब मंदोदरी ने देख लिया


 ऋषियों ने नहीं देखा तो मंदोदरी जो कि एक मेंढकी थी वो ऋषियों के देखते देखते उनके खाने से पहले उनकी खीर बना रहे पात्र में गिर गई 


ऋषियों ने ये सब देख लिया तो अब जिस भोजन में अगर मेंढक गिर जाए उसे कोन खाए 


इसलिए उन्होंने उस खीर को फेक दिया जैसे ही उन्होंने खीर को फैका उसमे से मेंढकी के साथ एक सर्प भी निकला 


ऋषियों ने समझ लिया कि इस मेंढकी  ने हमे बचाने के लिए अपने प्राण त्याग दिए उन्होंने मंदोदरी को वापस जीवन दान दिया और एक कन्या का रूप दिया तब से कहा जाता हैं की मंदोदरी सप्तऋषियों की संतान थी


अब मंदोदरी सप्तऋषियों के साथ ही रहने लगी मगर ऋषियों ने  सोचा कि एक कन्य…

युधिष्ठिर को धर्म राज क्यो कहा जाता हैं ?

नमस्कार दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम बात करेंगे कि युधिष्ठिर को धर्म राज क्यो कहा जाता हैं क्या इसमें कुछ रहस्य है अगर है तो वो क्या है जिससे कि युधिष्ठिर को धर्म राज की उपाधि मिली 

अगर आपके मन में भी ये सवाल जागा है तो आप सही जगह आ गए हैं में इस पोस्ट हम आज आपके इसी सवाल का जवाब देने की कोशिश करेंगे 

दोस्तो युधिष्ठर की धर्मराज उपाधि की कहानी को समझने से पहले हमें यमराज की छोटी सी कहानी को समझना जरूरी है पर आप घबराइए नहीं ये कहानी बिल्कुल सूक्ष्म होगी तो चलिए शुरू करते है


हिंदू धर्म शास्त्रों में यम को मृत्यु का देवता माना गया है। यमलोक के राजा होने के कारण वे यमराज भी कहलाते हैं। यम सूर्य के पुत्र हैं और उनकी माता का नाम संज्ञा है। उनका वाहन भैंसा और संदेशवाहक पक्षी कबूतर, उल्लू और कौवा भी माना जाता है। उनका हथियार गदा है। यमराज अपने हाथ के कालसूत्र या कालपाश रखते हैं, जिससे वे किसी भी जीव के प्राण निकाल लेते हैं। कहते हैं जब जीवित प्राणी का संसार में काम पूरा हो जाता है तो उसके शरीर से प्राण यमराज अपने कालपाश से खींच लेते हैं, ताकि प्राणी फिर नया शरीर व नया जीवन शुरू कर सके। यमपुरी यम…

सूर्पनखा का असली नाम क्या था ! सूर्पनखा के पति का नाम क्या था ! Surpankha

सूर्पनखा का असली नाम क्या था [ surpankha ka asali name kya tha ]
सूर्पनखा के पति का क्या नाम था [ surpankha ke pati ka kya name tha ] 

नमस्कार दोस्तों आज के इस ब्लॉग में हम बात करेंगे कि रावण की बहन सुरपंखा या सूर्पनखा के पति का क्या नाम था और सूर्पनखा का असली नाम क्या था

दोस्तो सूर्पनखा रावण की बहन थी उसका असली नाम सूप नखा था जिसका अर्थ होता है सुंदर नाखूनों वाली 

क्योंकि सूर्पनखा इतनी सुंदर थी कि पुरुष उसके नाखूनों को देखकर ही मोहित हो जाते थे इसलिए उसका नाम सूप नखा पड़ा 


सूर्पनखा के पति का क्या नाम था :- सूर्पनखा के पति का नाम विधुतजिव्ह था जो कि कालकेय नाम के राजा का सेनापति था एक बार कालकेय ओर रावण में युद्ध हो गया और कालकेय की सेना का नेतृत्व जहा विधुतजिव्ह कर रहा था तो दूसरी ओर रावण की सेना का नेतृत्व स्वयं रावण कर रहा था

विधुतजिव्ह के सामने परिस्थिति कठिन थी क्योंकि उसका कर्तव्य बनता था कि अपने राज्य की रक्षा करे मगर ऐसा करता है तो सामने उसका खुद का शाला ही था 

सूर्पनखा ने रावण को समझाया था कि कालकेय की राजधानी पर आक्रमण मत करो मगर रावण अपने राज्य के विस्तार की लालसा में अंधा हो ग…