Skip to main content

Posts

Showing posts from January, 2020

जंगल की भीलनी सबरी था नाम भजन लिरिक्स, जंगल में भीलनी जंगल में राम लिरिक्स

जंगल में भीलनी जंगल में राम भजन लिरिक्स
जंगल की भीलनी सबरी था नाम लिरिक्स
भजन 
जंगल में भीलनी सबरी था नाम
प्रेम से बंधे जिसके घर में खींचे आ गए राम
जंगल में भीलनी सबरी था नाम


मन में प्रभु की भक्ति आंखों में था प्यार
जनम जनम से श्री राम का उसको इंतजार
आंखों में तस्वीर राम की होठों पे था नाम
जंगल में भीलनी सबरी था नाम

रोजे ही बुहारे आंगन बांधे नहीं बंदनवा रे
मन ही मन में रामचंद्र की करती सो सो मनुहारे
आरती उतारे प्रभु की गाए सुबह श्याम
जंगल में भीलनी सबरी था नाम


एक दिन जो बन से आई झोपड़ी में पांव लिया
बस तभी सुना किसी ने द्वार से पुकार लिया
खोल के किवड़िया देखा खड़े मिली राम
जंगल में भीलनी सबरी था नाम


देख के निहाल हो गई पल में बेहाल हो गई
दशरथ सुत खड़े सामने घटना कमाल हो गई
मन ने निमंत्रण दिन्हा आंखों ने प्रणाम
जंगल में भीलनी सबरी था नाम


बोली प्रभु धीरे-धीरे नाम रामचंद्र मेरा
भूख प्यास से व्याकुल अतिथि बना हूं तेरा
थोड़ा जलपान मिले आए आराम
जंगल में भीलनी सबरी था नाम


दौड़ पड़ी कुटिया में वह आसन आंगन बिछाया
करके संकेत प्रभु को अपने सम्मुख बिठाया
घर में थे बेर जितने ले आई तमाम
जंगल में भीलनी सबरी था नाम


एक एक बेर चख …

रावण की सम्पूर्ण कथा, रावण की सम्पूर्ण जानकारी : Ravan ke dada ka naam

रावण की सम्पूर्ण कथा
           रावण की सम्पूर्ण जानकारी
          रावण के पिता का नाम क्या था
          रावण के दादा का नाम क्या था
          रावण की माता का नाम क्या था
           रावण की दादी का नाम क्या था
          रावण के नाना का नाम क्या था
         रावण की नानी का नाम क्या था
         रावण की लंका किसने बनाई
         रावण कोन से गोत्र का था
         रावण कोन सी जाती का था



    बुराई का पालक या मानव जाति का हितैषी 
रावण के माता-पिता पुरे परिवार के सदस्यों का नाम  :- रावण के पिता का नाम ऋषि विशेश्रवा था तथा रावण की माता का नाम कैकसी था रावण के दादा का नाम पुलुस्तमुनी था तथा रावण की पत्नी का नाम मंदोदरी था तथा रावण रावण की बहन का नाम सुपनखा था

रावण के कितने पुत्र थे :-

रावण के पांच पुत्र थे जिनके नाम क्रमशः मेघनाथ, अक्षय कुमार, परास्त, नारायणतक, एवं अहीरावण था इनमे से तीन पुत्र रावण के पास लंका मे रहते थे जबकी अहीरावण पाताल का राजा था और नारायणतक किष्कंधा के आसपास रहता था रावण कि पुत्री का नाम कुम्भनिशि था रावण का सगा भाई कुम्भकरण था तथा एक कर पकङा भाई विभीषण था



रावण कोनसे गोत्र का…

गोगाजी महाराज की सम्पूर्ण कथा / story of gogaji maharaj / goga ji Maharaj ki katha

गोगा जी महाराज की सम्पूर्ण कथा
राजस्थान के पूजनीय लोक देवता की सम्पूर्ण कथा




कहते है की राजस्थान की धरती हमेशा वीर और देवी देवताओ को जन्म देती और राजस्थान की पावन धरती पर अनेक देवी देवताओ और वीर पुरूषो ने जन्म लिया है दीन एवं दुखी जनो के कष्टो का निवारण कीया है और इन्ही मे से एक है गोगा जी महाराज

 गोगा जी महाराज की जन्म  कथा:-गोगा जी महाराज का जन्म विक्रमी संवत 1003 को राजस्थान के चुरू जिले के ददरेवा गांव मे हुआ इनकी माता का नाम बाछल और पिता का नाम जेवर सिंह चौहान था तथा गोगाजी महाराज के गुरू का नाम गोरखनाथ महाराज था और गुरू गोरखनाथ के आशिर्वाद के कारण ही इनका जन्म हुआ था

लोक मान्यता के अनुसार माता बाछल के घर मे कोई सन्तान नही थी और एक गुरू गोरखनाथ का एक शिष्य माता बाछल के महल मे आकर भिक्षा मांगी माता बाछल ने चावल और मुंग उसको भिक्षा मे देना चाही तो उस शिष्य ने मना कर दिया की माता हमे तो अपने बच्चो का झूठा भोजन ही ला दो हम चावल और मुंग नही लेगे तब माता बाछल बङी दुखी होकर कहने लगी की महाराज मेरे घर में तो कोई बालक है ही नही और इस कारण मे बङी दुखी भी हु तो शिष्य ने कहा माता आ…

अहिल्या के पिता का नाम क्या था ! Ahilya stori

अहिल्या के पिता का नाम क्या था
अहिल्या की संपूर्ण कथा

पौराणिक कथाओ और मान्यताओ के अनुसार अहिल्या गौतम ऋषि की नार जो की गौतम ऋषि के श्राप से पत्थर की बन गई थी वो सप्त कन्याओ मे से ही एक थी ये सप्त कन्याऐ सप्तर्षियोके समान ही तेजस्वी तथा गुणवत्ता से परिपूर्ण थी



अहिल्या के पिता का नाम :-
अहिल्या के पिता का नाम ब्रह्मा था अहिल्या गौतम रिषि की पत्नी थी अहिल्या और गौतम के दो सन्तान थी जिनमे एक पुत्र और एक पुत्री थी पुत्र का नाम सतानंन्द था तथा पुत्री का नाम का नाम  अंजना था

अहिल्या पत्थर की मूर्ति क्यो बनी
एक बार देवराज इन्द्र के मन मे मृत्युलोक की सबसे सुंदर स्त्री के साथ कामक्रिङा करने की वासना जाग गई

तो देवराज इन्द्र ने सुर्य को बुलाकर पुछा की पृथ्वी पे सबसे सुन्दर स्त्री कोन है

सुर्य ने कहा की महाराज मेरे तेज मे कोई भी सुन्दर स्त्री बाहर नही निकलती है मुझे पता नही आप चंद्रमा से पुछीये

देवराज इंद्र ने चंद्रमा से पुछा

तो चंद्रमा ने जबाब दिया की महाराज गौतम की नारी अहिल्या संसार की सबसे सुन्दर स्त्री है

फिर इन्द्र खुद गौतम का स्वरूप बनाया और चंद्रमा को एक मुर्गे का स्वरूप बनाने को कहा

और दोनो…

श्याम भजन लिरिक्स / shyam bhajan lyrics / कूण जाने या माया श्याम की लिरिक्स

Shyam bhajan lyrics
Khatu shyam bhajan lyrics
Shree shyam bhajan lyrics
Kun jane ya maya shyam ki lyrics
Tirloki ko nath jaat ke ban gyo hali re lyrics
श्याम भजन लिरिक्स
खाटू श्याम भजन लिरिक्स
श्री श्याम भजन लिरिक्स
कुण जाने या माया श्याम की
अजब निराली र लिरिक्स
तिरलोकी को नाथ जाट के
बन गया हाली र लिरिक्स

भजन
कुण जाने या माया श्याम की
अजब निराली र
तिरलोकी को नाथ जाट के
बन गया हाली र




सौ बीघा की खेत जाट के
राम भरोसे खेती र
आधा मे बावे गेहूं चना
आधा में दाना मेथी र
बिना बाड को खेत जाट क
राम रुखाली र
तिरलोकी को नाथ जाट के
 बन गया हाली र


कुण जाने या माया श्याम की
अजब निराली र
तिरलोकी को नाथ जाट के
बन गया हाली र



भूरी भैंस चिमकनी जाट के
दो बकरी दो नारा र
बिना बाड को बाडो जाट के
बांध न्यारा न्यारा र
आव चोर जद उभो दिखे
जावे खाली र
तिरलोकी को नाथ जाट के
बन गया हाली र

कुण जाने या माया श्याम की
अजब निराली र
तिरलोकी को नाथ जाट के
बन गया हाली र



जाट जाटनी निर्भय सोवे
सोव छोरा छोरी र
श्याम धनी पहरा पर उभॊ
कैसे होवे चोरी र
चोर आवे चक्कर लगावे
देव गाली र
तिरलोकी को नाथ जाट के
बन गया हाली र


कुण जाने या माया श्याम की
अजब निराली र
तिरलोकी को नाथ जाट के
ब…

कायारूपि भजन लिरिक्स/ थोड़ी सी जिंदगी खातिर नर के के तूफान करे

Chetavani bhajan lyrics
Kayarupi bhajan lyrics
Purane bhajan lyrics
Bhajan lyrics
चेतावनी भजन लिरिक्स
कायारूपी भजन लिरिक्स
पुराने भजन लिरिक्स
थोड़ी सी जिंदगानी खातिर लिरिक्स
नर के के तूफान कर लिरिक्स
एक मिनट का नहीं भरोसा लिरिक्स
बरसो का सामान करे लिरिक्स
भजन
थोड़ी सी जिंदगानी खातिर
नर के के तूफान कर
एक मिनट का नहीं भरोसा
बरसो का सामान करे


काया रूपी सराय बीच में
भक्ति करने आया तू
देख देख धन माल खजाना
मन मूर्ख ललचाया तू
कुडमा खातिर बना कमाऊ
बोत गना दुख पाया तू
धर्म हेत धेला ना खर्चे
करोड़ पति कहलाया तू
जोड़ जोड़ धन भेला करलिया
ना खर्चे ना दान करे
एक मिनट का नहीं भरोसा
बरसो का तूफान करे



बालकपन हंस खेल गवाया
मिल बच्चो की टोली में
जब भाई तेरे चड़ी जवानी
बैठा संगत होली में
बुड्ढा होगा दांत टूट गए
सार नहीं तेरी बोली में
सब घरका ने खारो लागे
खाट घालदी पोली में
भाई बन्धु कुटूम कबीला
मतलब कि मनवार करे
एक मिनट का नहीं भरोसा
बरसो का तूफान करे



जिस घोड़ी पर चढ़ा कर था
घोड़ी जाएगी नाट तेरी
के तिरिया संग हेत बावला
तोड़ी जाएगी खाट तेरी
भाई बन्धु भेेला होके
जोड़ी जाएगी फाट तेरी
चिता बनाके आग लगाके
फोड़ी जाएगी टाट तेरी
जब निकाल जाएगी आंट तेरी
तू ई…

चेतावनी भजन लिरिक्स, कोई बोले जारी खबर करो, काया रूपी भजन लिरिक्स,

Chetavani bhajan lyrics
Kayarupi bhajan lyrics
Purane bhajan lyrics
Bhajan lyrics
चेतावनी भजन लिरिक्स
कायारूपी भजन लिरिक्स
पुराने भजन लिरिक्स
 काई तो आवे र काई जाय लिरिक्स
बोले जारी खबर करो लिरिक्स
Bole ja ri khabar kro lyrics 
भजन
संतो काई तो आवे रेे काई जाय
  कोई बोल जारी खबर करो


निज मन्दिर चोरी भई रे चुरा गई  एक लार
ना जाने कोण ले गयो र फूटी नहीं र दीवार
कोई बोले जा री खबर करो


संतो काई तो आवे रेे काई जाय
  कोई बोल जारी खबर करो

हस्थी खुल गए थान से जी जग में पड़ी पुकारदस दरवाजा बंद पड़या है निकाल गया असवारकोई बोले जारी खबर करो

संतो काई तो आवे रेे काई जाय
  कोई बोल जारी खबर करो

पानी का एक बन्या बुदबदा धराया आदमी नाम
आया था हरि भजन करन को आय बसा लिया गाव
कोई बोले जारी खबर करो

संतो काई तो आवे रेे काई जाय
  कोई बोल जारी खबर करो


कहत कबीर सुनो भाई साधो ये पद है निर्वाण
या पदा री कर खोजना वो नर चतुर सुजान
कोई बोले जारी खबर करो


संतो काई तो आवे रेे काई जाय
  कोई बोल जारी खबर करो
नमस्कार दोस्तों हमारे ब्लॉग पर आप सभी का स्वागत है में इस ब्लॉग पर Purani katha और Bhajan lyrics और Song lyrics / के पोस्ट लाता रहता हूं तो आप ह…

चेतावनी भजन वा र म्हारा मनडा बदल गया दिनडा लिरिक्स / ba pela wali baat nahi lyrics

Chetavani bhajan lyricsKayarupi bhajan lyricsPurane bhajan lyricsBhajan lyricsचेतावनी भजन लिरिक्सकायारूपी भजन लिरिक्सपुराने भजन लिरिक्सवा र म्हारा मनडा बदल गया दिनडा लिरिक्सबा पेला वाली बात नहीं लिरिक्स
भजन
वा र म्हारा मनडा बदल गया दिनडा
बा पेला वाली बात नहीं
गऊ माता की कद्र बिगड़ गई
जीवती की खाल उधड़ गई
सावन सुखो जाव र
पेला वाली बरसात नहीं

वा र म्हारा मनडा बदल गया दिनडा
बा पेला वाली बात नहीं

मा जाया बोले नहीं भाई
देखी कलयुग की करूताई
बेटो बाप न आंख दिखावे
सरवन सी ओलाद नहीं

वा र म्हारा मनडा बदल गया दिनडा
बा पेला वाली बात नहीं
सत्वंती ना रही लुगाई
बात कर घूंघट के माई
बहू सास न गाली काड
सासरा म नई नई

वा र म्हारा मनडा बदल गया दिनडा
बा पेला वाली बात नहीं



कई कई साधु हुया स्वाधू
प्रेम जाल का लग रया जादू
बाबोजी चेली से राजी
चेला में वा बात नहीं
वा र म्हारा मनडा बदल गया दिनडा
बा पेला वाली बात नहीं
धुना राम यू कहग्या सांची
गर्व करो मत काया काचि
बालाजी को हाथ शीश पर
दुश्मन की ओकात नहीं
वा र म्हारा मनडा बदल गया दिनडा
बा पेला वाली बात नहीं
नमस्कार दोस्तों हमारे ब्लॉग पर आप सभी का स्वागत है में इस ब्लॉग पर Purani katha और Bhajan…

कर चले हम फ़िदा लिरिक्स / Desh bhakti geet/ Happy Republic Day 2020/

Desh bhakti geet lyrics
Desh bhakti kavita lyrics
Desh bhakti song lyrics
Happy republic day 2020 in advance
देश भक्ति गीत लिरिक्स
कर चले हम फ़िदा लिरिक्स
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों लिरिक्स
Kar chale ham fida lyrics
Ab tumhare hawale watan lyrics
गीत
कर चले हम फ़िदा जान-ओ-तन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

कर चले हम फ़िदा जान-ओ-तन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों
कर चले हम फ़िदा जान-ओ-तन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों
कर चले हम फ़िदा जान-ओ-तन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों


सांस थमती गई नब्ज जमती गई
फिर भी बढ़ते कदम को ना रुकने दिया
कट गए शर हमारे तो कुछ गम नहीं
शर हिमालय का हमने ना झुकने दिया
मरते मरते रहा बांक पन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

कर चले हम फ़िदा जान-ओ-तन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों


जिंदा रहने के मौसम बहुत है मगर
जान देने की रुत रोज़ आती नहीं
हुस्न और इशक दोनों को रुसवा करे
वो जवानी जो खुं में नहाती नही
आज धरती बनी है दुल्हन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

कर चले हम फ़िदा जान-ओ-तन साथियों
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों


राह कुर्बानियों की ना वीरान हो
तुम स…

Desh bhakti song lyrics / जहां डाल डाल पर लिरिक्स/ Happy republic day 2020

Desh bhakti geet lyrics
Desh bhakti kavita lyrics
Desh bhakti song lyrics
Happy republic day 2020 in advance
देश भक्ति गीत लिरिक्स
जहां डाल डाल पर सोने की चिड़िया लिरिक्स

गीत
जहा डाल डाल पर सोने कीच
चिड़ियां करती हैं बसेरा
ये भारत देश है मेरा
ये भारत देश है मेरा
यहां सत्य अहिंसा और धर्म का
पग पग लगता डेरा
ये भारत देश है मेरा
ये भारत देश है मेरा

जय भारती जय भारती
जय भारती जय भारती
ये वो धरती जहां ऋीषी मुनि
जपते प्रभु नाम की माला
जहां हर बालक एक मोहन है
और राधा हर एक बाला
जहां राधा हर एक बाला
जहा सूरज सबसे पहले आकर
डाले अपना डेरा
ये भारत देश है मेरा
ये भारत देश है मेरा
जय भारती जय भारती
जय भारती जय भारती



अलबेलों की धरती के
त्योहार भी है अलबेले
कहीं दीवाली की जगमग
कहीं है होली के मेले
कहीं है होली के मेले
जहां राग रंग और हसी खुशी का
चारो ओर है घेरा
ये भारत देश है मेरा
ये भारत देश है मेरा
जय भारती जय भारती
जय भारती जय भारती



यहां आसमान से बाते करते
मन्दिर और शिवालय
यहां किसी नगर में किसी द्वार पर
कोई ना ताला डाले
कोई ना ताला डाले
यहां सत्य अहिंसा और धर्म का
पग पग लगता डेरा
ये भारत देश है मेरा
ये भारत देश है मेरा
जय भारती जय भारती
जय भा…

Balaji bhajan lyrics/ बालाजी भजन लिरिक्स

Balaji bhajan lyrics
Bhajan balaji lyrics
बालाजी भजन लिरिक्स
बालाजी भजन लिखित में
भजन बालाजी लिरिक्स
भजन बालाजी लिखित में

भजन
झालर संख नगरा बाजे रे
सालासर के मन्दिर में
हनुमान बिराजे रे

भारत राजस्थान में जी
सालासर एक धाम
सूरज सामो बनयो देवरों
बालाजी जी को धाम
जाके लाल धजा
लहरावे रे
सालासर के मन्दिर में
हनुमान बिराजे रे
झालर संख नगरा बाजे रे
सालासर के मन्दिर में
हनुमान बिराजे रे



नरेला की गिनती कोनी
सवर्ण छत्र हजार
दूर देश से आवे जात्री
बोले जय जय कार
सारा जय जय कार लगावे रे
सालासर का मंदिर में
हनुमान बिराजे रे
झालर संख नगरा बाजे रेे
सालासर का मंदिर में
हनुमान बिराजे रे





चैत्र सुदी पूनम को मेलो
भीड़ लगे अती भारी
बाबा थारा दर्शन करने
आव है नर नारी
ब तो जात जदुल्या ल्याव रे
सालासर का मंदिर में
हनुमान बिराजे रे
झालर संख नगरा बाजे रे
सालासर के मन्दिर में
हनुमान बिराजे रे



राम दूत अंजनी सुत का
धरो हमेशा ध्यान
चैन सिंह चरना रो चाकर
लाज रखे हनुमान
बाबो बेड़ा पार लगावे रे
सालासर का मंदिर में
हनुमान बिराजे रे
झालर संख नगरा बाजे रे
सालासर का मंदिर में
हनुमान बिराजे रे




नमस्कार दोस्तों हमारे ब्लॉग पर आप सभी का स्वागत है में इस ब्लॉग पर पुरानी कथा

Mira bai bhajan lyrics, गिरधर आवो तो सही लिरिक्स

मीरा बाई भजन लिरिक्स
Mira bai bhajan lyrics
Mira bhajan lyrics
Bhajan mira lyrics

भजन

गिरधर आवो तो सही
मोहन आवो तो सही
माधो रा मन्दिर में मीरा
एकली खड़ी

थे कहो तो सांवरिया
में बाजू बंद बन जाऊ
बाजू बंद बन जाऊ थारा
हाथों में रम जाऊ
गिरधर आवो तो....



थे कहो तो सांवरिया
में मौर मुकुट बन जाऊ
मोर मुकुट बन जाऊ थारा
केशा में रम जाऊ
गिरधर आवो तो सही......




थे कहो तो सांवरिया
में बांसुरिया बन जाऊ
बासुरिया बन जाऊ थारा
होटा से मिल जाऊ
गिरधर आवो तो सही.....




थे कहो तो सांवरिया
में पग पायल बन जाऊ
पग पायल बन जाऊ थारा
चरना में रम जाऊ
गिरधर आवो तो सही...


नमस्कार दोस्तों हमारे ब्लॉग पर आप सभी का स्वागत है में इस ब्लॉग पर पुरानी कथा और भजन लिरिक्स के पोस्ट लाता रहता हूं तो आप हमसे जुड़े रहे और हमारे ब्लॉग को फॉलो करें अगर ये पोस्ट अच्छी लगी तो इसे लाईक और शेयर करें इस पोस्ट को को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद

Chetavani Bhajan lyrics/ भजन चार प्रश्नों का लिरिक्स

भजन चार प्रशनो का लिरिक्स

भजन
 सत्य नाम ईश्वर का सजनो
पारब्रम कहलाते है
हरी की महिमा आगे सजनो
 सब नर शीश झुकाते हैं




दशरथ सुत श्री राम चन्द्र जी
विश्वामित्र के साथ गए
रक्षा किनी विश्वामित्र की
सिया स्वयंबर देखन गए
रावण बाणासुर से योद्धा
धनुष के आगे हार गए
गुरु की आज्ञा पाकर के
प्रभु धनुष के दो टूक किए
दशरथ जी तो जनकपुरी में
बारात सज़ा कर आते है
हरी की महिमा आगे......



हिरनाकुश प्रलाद भक्त को
नष्ट करने को तैयार हुए
बांध पोट पर्वत से पटका
प्रभु ने अपने हाथ लिए
गोदी में ले दुष्ट होलिका
अग्नि में स्नान किया
प्रहलाद भक्त बच गए अग्नि से
होली जलाकर राख किया
खंभ गर्म करवाया राजा ने
कीडी चलती दिखलाते है
हरी की महिमा...............






नरसी जी जब नानी बाई का
नगर अंजार में ब्याह किया
निर्धन हो गया नरसी भक्त जब
हरनंदनी का ब्याह किया
व्याकुल होकर नानी बाई ने
श्याम प्रभु को याद किया
अपने भक्त की लाज बचाने
रूप सेठ का धार लिया
कंचन मेघ बरसाया प्रभु ने
किच नहीं दिखलाते है
हरी की महिमा...............





पांचों पांडव द्रुपद सुता को
जुए में जब हार गए
मौका पाकर दुष्ट दुशासन
नगन करन को त्यार हुए
भरी सभा योद्धा की बैठी
नीचा शीश झुकाय रहे
न्याय ना किना उस अबल…

Jaisal-dhadvi-ki-katha-lyrics/ जैसल धाड़वी की कथा लिरिक्स

जैसल धाड़वी की कथा लिरिक्स
कथा
सबसे मिठो बोल साथिडा
सबसे मीठो बोल
दुनिया में थोड़ो जीवनों
पंछिड़ा र हो जी......

कमर कसी तलवार धाड़वि
कमर कसी तलवार
कोई सोन कटारी हाथ में
जैसल के र हो जी......

आयो विकट तूफान गांव में
आयो विकट तूफान
पणिहारी घड़ला फोडिया
पनघट पर जी हो जी.....


आग मिलगी सांड भुरनी
आग मीलगी सांड
कोई उपर बेठयो बानियो
लुटुगा र हो जी........


धन दौलत ले जाए धाडवी
धन दौलत ले जाए
दुनिया में जिंदो छोड़ दें
 धाड़ेती र हो जी



करबा लाग्यो दान बानिया
करबा लाग्यो दान
कोई साधु स्वामी जानिया
थे म्हाने जी हो जी.....

बूढ़ा मायर बाप धाड़वी
बूढ़ा मायर बाप
कोई छोटा छोटा टाबरिया
नगरी में जी हो जी.....

बोरा जोवे बाट धाड़वी
बोरा जोवे बाट
कोई काग उड़ावे कामनी
नगरी में जी हो जी.....
लेऊ मिनख ने मार बाणीया
लेउ मिनखा ने मार
कोई जैसल कहदया धाड़वी
पुजेडा र हो जी...........



करबा लाग्यों याद बानीयो
करबा लग्यो याद
निर्बल रा हेला सामलो
अंदाता जी हो जी.......



काना पड़ी आवाज भक्त की
काना पड़ी आवाज
चोपड़ न आडी रख दिया
बाबाजी र हो जी..........



हो नीले असवार बापजि
हो नीले असवार
बनिया की ओरा चल दिया
बाबाजी र हो जी



पाछो मुड़कर देख धाड़वी
 पाछो मुड़कर देख
या हीरा …

Raamdev-ji-bhajan-lyrics/बींजारारे-हंस-हंस-बोल-काई-भर-लायो-र-लिरिक्स

बिंजारारे हस हस बोल काई भर ल्यायो लिरिक्स
भजन
बिंजारारे हस हस बोल
काई भर ल्या यो  र
सांभर सू आयो बापजी
गाढ़ा भर लयायो लुन
लुण बेच म्हारा टाबर पालू
पूरी करू म्हारी जुण
लुण भर ल्या यो  र

झूट बोल्या सु सार नहीं र
सांची बोल्या सु सार
जेडी तेरी भावना रे
पूरी कर करतार
काई भर ल्या यो  र

बालाद खोली मिश्री घोली
करी रसोई त्यार
जद बिंजारो जीमन बैथ्यो
हो गई खारम खार
काई भर ल्या यो  र

पैदल चलकर आयो बींजारो
लाम्बा जोड़े हाथ
गलती को म पुतलों
म्हाने माफ करो करतार
काई भर ल्या यो  र
पन्ना लाल की विनती ने
सुंज्यो लख दतार
मैनादे रा लाडला
नैतल रा भरतार
काई भर ल्या यो  र
बिंजारारे हस हस बोल
काई भर ल्या यो  र
नमस्कार दोस्तों हमारे ब्लॉग पर आप सभी का स्वागत है में इस ब्लॉग पर पुरानी कथा और भजन लिरिक्स के पोस्ट लाता रहता हूं तो आप हमसे जुड़े रहे और हमारे ब्लॉग को फॉलो करें अगर ये पोस्ट अच्छी लगी तो इसे लाईक और शेयर जरुर करे ये पोस्ट पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद

Shyam-bhajan-lyrics/जग में सुंदर है दो नाम भजन लिरिक्स

जग में सुंदर है दो नाम भजन लिरिक्स
             भजन
जग में सुंदर है दो नाम
चाहे कृष्ण कहो या राम
बोलो राम राम राम
बोलो श्याम श्याम श्याम


माखन ब्रज में एक चुरावे
एक बेर भीलनी के खावे
प्रेम भाव से भरे अनोखे
दोनों के है काम
चाहे कृष्ण कहो या राम
जग में सुंदर है दो नाम
चाहे कृष्ण कहो..........



एक कंस पापी को मारे
एक दुष्ट रावण संहारे
दोनों दिन के दुख हरत है
दोनों बल के धाम
चाहे कृष्ण कहो या राम
जग में सुंदर है दो नाम
चाहे कृष्ण कहो या.......


एक राधिका के संग राचे
एक जानकी संग बिराजे
चाहे सीताराम कहो
या बोलो राधेश्याम
चाहे कृष्ण कहो या राम
जग में सुंदर है दो नाम
चाहे कृष्ण कहो या राम
बोलो राम राम राम
बोलो श्याम श्याम श्याम

नमस्कार दोस्तों हमारे ब्लॉग पर आप सभी का स्वागत है में इस ब्लॉग पर पुरानी कथा और भजन लिरिक्स के पोस्ट लाता रहता हूं तो आप हमसे जुड़े रहे और हमारे ब्लॉग को फॉलो करें अगर ये पोस्ट अच्छी लगी तो इसे लाईक शेयर जरुर करे ये पोस्ट पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद

Chetavani bhajan lyrics | बड़े बड़े ऋषियों का मारा मान लुगाई ने

चेतावनी भजन लिरिक्स
दोहा- जे सुख चावे जीव का चीज छोड़ दें चार
         चोरी जुवा जामनी और पराई नार
         चोरी कैद कराय दे और जुआ दे हरवा
         घर बिकवादे दे जामनी और नार दे मरवा

भजन सबसे बड़ा अधिकार दिया करतार लुगाई ने

टेर-  सबसे बड़ा अधिकार दिया करतार लुगाई ने
         बड़े बड़े ऋषियों के मारे मान लुगाई ने


बोल-  कैकई जुलम किया था मोटा
         भूप से बचन मांग लिया खोटा
         दे दिया चौदहा वर्ष देसोटा
        दिया बनवास लुगाई ने
       दशरथ से योद्धा के ले लिया प्राण लुगाई ने
       सबसे बड़ा अधिकार..........................


बोल- सावित्री अश्वपति की जाई
         वा तो सत्यवान संग ब्याही
        पति को यम से छुड़ा कर लयाही
        दिया जीवदान लुगाई ने
        यमराज से देव का मारा मान लुगाई ने
        सबसे बड़ा अधिकार....................


बोल- इन्द्र किया था नीच विचार
       गोतम घर छेड़ी अहिल्या नार
      भाग फिर हो गए उसके हजार
        दिलवाया श्राप लुगाई ने
      चन्द्रमा के लगा दिया काला दाग लुगाई ने
      सबसे बड़ा अधिकार........................



बोल- तुलसी था पत्नी का दास
        पीहर में गया बहू के…

राज तो डिगा दियो राजा बल को राजा में कैसी विपदा पड़ी भजन लिरिक्स

राज तो डिगा दियो राजा बल को राजा में कैसी विपदा पड़ी भजन लिरिक्स

                        भजन
राज तो डिगा दियो राजा बल को राजा में कैसी विपदा पड़ी



बोल - विपदा पड़ी थी राजा नल में
          माया का कोयला होगया पल में
         भुंदया तीतर उड़ गया बन में
        हार तो निगल गई खुटी गल को छोड़ी तो नहीं एक लड़ी
       राज डिगा दियो राजा बल को..............................




बोल- विपदा पड़ी थी हरिचन्द्र दानी
         काशी में बिक गए तीनों प्राणी
         राजा कंवर तीसरी रानी
        रानी घडो उठायो नहीं जल को नेना से लागी निर झड़ी
        राज डिगा दियो राजा बल को.............................






बोल- विपदा पड़ी थी दस्कांधर में
        लंका जला दी एक बंदर ने
       सीता जी चड़ गई निज मन्दिर में
      नास करायो अपना कुल को मंदोधर रोवे खड़ी खड़ी
      राज डिगा दियो राजा बल को राजा में......................




बोल- हरदेवा स्वामी कथ कह गावे
         खेड़ा बस्ती गांव बतावे
          सब गुनियो को शीश नवावे
       भरोसो नहीं है एक पल को मौत आ जावे अब कि घड़ी
      राज डिगा दियो राजा बल को राजा में कैसी विपदा पड़ी





नमस्कार दोस्तों…

परीक्षित राज के जी सजनों सात चीज गई संग भजन लिरिक्स

परीक्षित राज के जी सजनों सात चीज गई संग भजन लिरिक्स

परीक्षित राज के जी सजनो सात चीज गई संग
बोल - लाल गई परास गई गया मनिधारी भुजंग            संजीवन बूटी गई जद भारत होगया तंग
          परीक्षित...................................
बोल- ब्राह्मण का बर्म तेज गया जी गया वेद का अंग
        क्षत्रि का क्षत्रापन गया अब कोनी मचाव जंग
       परीक्षित राज के जी.............................

बोल- सात गई और सात जाएगी दया धर्म सत्संग
          गीता गऊ गायत्री जासी सबसे पीछे गंग
          परीक्षित राज के जी....................
बोल- भेद भाव सब बदल गया नहीं सुधरण का ढंग
         कह मोहर सिंह इस दुनिया का नया खिलेगा रंग
         परीक्षित राज के जी सजनो सात चीज गई संग
        नमस्कार दोस्तों हमारे ब्लॉग पुरानी कथा पर आपका स्वागत है दोस्तो इस ब्लॉग पर में रोज़ भजन और पुरानी कहानियां के पोस्ट लाता रहता हूं तो आप हमारे एस ब्लॉग जुड़े रहे आपका बहुत बहुत धन्यवाद

चेला वोही चीज लाना र गुरु ने मंगाई भजन लिखित में

चेला वोही चीज लाना रे गुरु ने मंगाई भजन लिखित में

चेला वोही चीज लाना र गुरु ने मंगाई
बोल- पहली भिक्षा अन की लाना
       नगर बस्ती के पास ना जाना
       चलती चक्की तज कर लाना
       झोली भर के लाना र गुरु ने मंगाई
       चेला वोही चीज...................

बोल-  दूजी भिक्षा जल की लाना
        कुआं बावड़ी के पास ना जाना
          नदी नाला तज कर लाना
        कमंडल भर के लाना र गुरु ने मंगाई
        चेला वोही चीज.....................

बोल-   तिजी भिक्षा लकड़ी लाना
           झाड़ जंगल के पास ना जाना
           अाली सुखी देख के लाना
           गट्ठर बांध लाना र गुरु ने मंगाई
          चेला वोही चीज..................

बोल-   चोथी भिक्षा अग्नि लाना
          चूल्हा भट्टी के पास ना जाना
           कहत कबीर सुन र चेला
          ठठेरा भर के लाना र गुरु ने मंगाई
         चेला वोही चीज लाना र गुरु ने मंगाई